समस्तीपुर: मोगलानी चक ग्राम वासियों ने लिया निर्णय, विद्यालय नहीं तो वोट नहीं


समस्तीपुर| प्रियांशु कुमार | मामला वारिस नगर विधानसभा अंतर्गत मोगलानी चक गांव के मध्य विद्यालय मोगलानी चक का है, जिसको शिक्षा विभाग पटना के द्वारा 16 सितंबर 2019 को अपग्रेड करके उच्च विद्यालय का दर्जा दिया। जिसको लेकर उत्क्रमित मध्य विद्यालय मोगलानी चक के प्रधानाध्यापक एवं अध्यक्ष की ट्रेनिंग समस्तीपुर के तिरूहुत एकेडमी में कराई गई। उसके उपरांत नवम वर्ग के संचालन हेतु एक वर्ग कमरा की निर्माण के लिए 16 लाख 64 हजार राशि की स्वीकृति हुई। उसके उपरांत नवम वर्ग के संचालन हेतु वर्क कक्षा का निर्माण संपन्न हो गया, लेकिन जिला शिक्षा पदाधिकारी समस्तीपुर के द्वारा उद्घाटन से कुछ दिन पूर्व हैं। उत्क्रमित मध्य विद्यालय मोगलानी चक का नाम हटा करके मध्य विद्यालय रायपुर का नाम सूची में जोड़ दिया गया जोकि न्याय उचित नहीं है। इसी को लेकर के सभी ग्रामवासी जिला अधिकारी समस्तीपुर, उप विकास आयुक्त समस्तीपुर, जिला शिक्षा पदाधिकारी समस्तीपुर, शिक्षा मंत्री बिहार सरकार आदि जगहों पर गुहार लगाए। तत्कालीन उप विकास आयुक्त समस्तीपुर के द्वारा गठित जांच टीम में जिला आपूर्ति पदाधिकारी समस्तीपुर के द्वारा जांच के उपरांत स्पष्ट पाया गया। जिला शिक्षा पदाधिकारी समस्तीपुर के द्वारा, शिक्षा विभाग के द्वारा स्थापित नियमों का अवहेलना करते हुए उत्क्रमित मध्य विद्यालय मोगलानी चक का नाम हटाकर मध्य विद्यालय रायपुर का नाम जोड़ना न्याय उचित नहीं है। इसके के बावजूद भी किसी के द्वारा न्याय नहीं मिलने पर ग्रामीणों ने निर्णय लिया है कि अगर हमारे विद्यालय को पुनः अपग्रेडनहीं किया गया तो हम समस्त ग्रामवासी लगभग 1600 वोटर वोट का बहिष्कार करेंगे। ग्रामीणों ने बैनर पोस्ट लेकर के वोट बहिष्कार के नारा लगाए एवं जिला शिक्षा पदाधिकारी समस्तीपुर के खिलाफ जमकर नारेबाजी किया।


Leave a Reply

Your email address will not be published.