वुहान में ठीक हुए मरीजों के फेफड़े हो रहे खराब, ऑक्सीजन सिलेंडर के सहारे रहना पड़ रहा


वुहान यूनिवर्सिटी के झॉन्गनैन अस्पताल में हॉस्पिटल्स इंटेंटिव केयर यूनिट्स के निदेशक पेंग झियोंग के नेतृत्व में ठीक हो चुके 100 मरीजों पर अप्रैल से ही एक टीम निगरानी रख रही थी। हमेशा उनके सेहत की जांच होती थी और टीम के सदस्य उन मरीजों के घर जाकर भी उनका हालचाल लेते थे। सर्वे के मुताबिक, मरीजों की औसत उम्र 59 साल है। यह सर्वे एक साल तक चलने वाला है, जिसका पहला चरण पिछले महीने की खत्म हुआ है। इस चरण के परिणामों के मुताबिक, ठीक हो चुके मरीजों में 90 फीसदी के फेफड़े लगभग खराब हो चुके हैं। उनके फेफड़ों का वेंटिलेशन और गैस एक्सचेंज फंक्शन काम नहीं कर रहा है यानी ये लोग कोरोना से अब तक पूरी तरह ठीक नहीं हो पाए हैं। कुछ मरीजों को ठीक हुए तीन महीने हो चुके हैं, लेकिन अब भी उन्हें ऑक्सीजन सिलेंडर के सहारे ही रहना पड़ रहा है। सिर्फ यही नहीं, 100 में से 10 मरीजों के तो शरीर से एंटीबॉडी ही खत्म हो चुकी हैं, जो कोरोना के खिलाफ लड़ने में सक्षम हैं। 

सर्वे कर रही टीम ने ठीक हुए मरीजों के साथ एक छह मिनट का वॉक टेस्ट भी किया। इस दौरान उन्होंने पाया कि मरीज सिर्फ 400 मीटर ही चल पा रहे हैं, वो भी बड़ी मुश्किल से जबकि एक स्वस्थ इतने समय में 500 मीटर तक चल लेता है। सर्वे के नतीजों के मुताबिक, पांच फीसदी मरीज कोरोना न्यूक्लिक एसिड टेस्ट में निगेटिव हैं जबकि इम्यूनोग्लोब्यूलिन एम टेस्ट में पॉजिटिव हैं। इसका मतलब ये है कि उन्हें फिर से क्वारंटीन होना पड़ेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ मरीजों को ठीक हुए तीन महीने हो चुके हैं, लेकिन अब भी उन्हें ऑक्सीजन सिलेंडर के सहारे ही रहना पड़ रहा है। सिर्फ यही नहीं, 100 में से 10 मरीजों के तो शरीर से एंटीबॉडी ही खत्म हो चुकी हैं, जो कोरोना के खिलाफ लड़ने में सक्षम हैं। सर्वे के मुताबिक, ठीक हुए मरीजों के शरीर में वायरस से लड़ने वाली बी-सेल्स की संख्या में भी कमी देखी गई है। हालांकि अब तक शोधकर्ताओं को ये पता नहीं चल पाया है कि वो लोग दोबारा कोरोना से संक्रमित हुए हैं या पहले ही बीमारी ही उन्हें परेशान कर रही है। हॉस्पिटल्स इंटेंटिव केयर यूनिट्स के निदेशक पेंग झियोंग का कहना है कि अभी ऐसे लोगों को पूरी तरह ठीक होने में समय लग सकता है।  

7 लाख से ज्यादा लोगों की अब तक कोरोना वायरस की वजह से जान जा चुकी है जबकि एक करोड़ 87 लाख के करीब लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। हालांकि खुशी की बात ये है कि लाखों लोग इस बीमारी से ठीक भी हो चुके हैं। इस वायरस का सबसे पहले पता पिछले साल के अंत में चीन के वुहान शहर में लगा था और तब से ही यह माना जा रहा है कि यह वहां के मांस बाजार से फैला, जहां खाने के लिए जंगली जानवरों की बिक्री होती है। अब उसी वुहान से कोरोना वायरस को लेकर एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आ रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, वुहान में कोरोना से संक्रमित होकर ठीक होने वाले जितने भी मरीज हैं, उनमें से ज्यादातर लोगों के फेफड़ों की हालत बहुत बुरी है। सिर्फ यही नहीं, ठीक हो चुके मरीजों में से पांच फीसदी को तो दोबारा संक्रमण हो गया और वो अस्पताल में भर्ती हैं। वुहान यूनिवर्सिटी के डॉक्टरों द्वारा किए गए एक सर्वे से इस बात का खुलासा हुआ। 


Leave a Reply

Your email address will not be published.