लखनऊ: JEE-NEET परीक्षा टालने को लेकर सपा कार्यकर्ताओं का राजभवन पर प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज


लखनऊ। जेईई और एनईईटी परीक्षाओं को टालने को लेकर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने लखनऊ में राजभवन के सामने प्रदर्शन किया। इनकी मांग थी कि कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए परीक्षा को टाला जाए। प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं पर यूपी पुलिस ने जमकर लाठीचार्ज किया और कुछ प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में भी लिया है।

सितंबर में होने वाले इन दोनों परीक्षाओं में करीब 28 लाख छात्र हिस्सा लेने वाले हैं। कोरोना महामारी के कारण तमाम पार्टियां इसे टालने की मांग कर रही हैं। हालांकि परीक्षा को आयोजित कराने वाली एजेंसी एनटीए ने कहा है कि दोनों एग्जाम तय समय पर होंगे। एनटीए ने एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव भी परीक्षा टालने की मांग कर रहे हैं। इसी को लेकर उन्होंने गुरुवार को एक खुला पत्र भी लिखा। पत्र में अखिलेश ने कहा कि नकारात्मक व हठधर्मी बदले की राजनीति करनेवाली भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टियों के खिलाफ देश में एक नई युवा क्रांति जन्म ले रही है, हम सब साथ हैं।

अगर दंगी भाजपा को लगता है कि परीक्षार्थियों और अभिभावकों की लोकप्रिय मांग पर वो ऐसे जानलेवा एग्जाम करवा रही है, तो केंद्रों के बाहर वो अपने कैबिनेट मंत्री, सांसद और विधायक तैनात करे, जहां पर कोई भी नियम-कानून नहीं होगा। साथ ही विद्यार्थियों के आने-जाने, खाने-पीने व ठहरने का प्रबंध वैसे ही करें जैसा वो विधायकों की खरीद-फरोख्त के समय करते हैं

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा की तरफ से ये हास्यास्पद और तर्कहीन बात फैलाई जा रही है कि जब लोग दूसरे कामों के लिए घर से निकल रहे हैं तो परीक्षा क्यों नहीं दे सकते। भाजपाई सत्ता के मद में यह भी भूल गए कि लोग मजबूरी में निकल रहे हैं और जो लोग घर पर रहकर बचाव करना भी चाहते हैं, आपकी सरकार परीक्षा के नाम पर उन्हें भी बाहर निकलने पर बाध्य कर रही है। 

ऐसे में अगर किसी परीक्षार्थी, उनके संग आए अभिभावक या घर लौटने के बाद उनके संपर्क में आए घर के बुजुर्गों को संक्रमण हो गया तो उसकी कीमत क्या ये सरकार चुकाएगी?


Leave a Reply

Your email address will not be published.