भारत को अब हिंदू राष्ट्र घोषित कर देना चाहिए, जब तक मेरी मांग स्वीकार नहीं होगी तब तक मैं अन्य जल नहीं लूंगा: महंत परमहंस दास


अयोध्या। मयंक श्रीवास्तव: हिंदुस्तान को हिंदू राष्ट्र बनाने की मांग को लेकर तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने आमरण-अनशन शुरू कर दिया हैं। अपने आश्रम के सामने स्थित अशोक वृक्ष के नीचे सुबह 5:00 बजे अनजल त्याग व विधिवत पूजन अर्चन करने के बाद महंत परमहंस दास तपस्वी छावनी में आमरण अनशन पर बैठे। इस दौरान उनके साथ उनके कई शिष्य भी मौजूद हैं।

आपको बता दें, 2 वर्ष पूर्व भी महंत परमहंस दास अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर सप्ताह भर से अधिक समय तक आमरण अनशन कर चुके हैं और उनका यह अनशन बेहद चर्चा का केंद्र रहा था। परमहंस दास ने कहा है इसके लिए उनके द्वारा छः महीने पहले ही राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री व मुख्यमंत्री को पत्र भेज कर अवगत करा चुका है। भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने और पाकिस्तान, बांग्लादेश में रहने वाले हिंदुओं को वापस भारत में लाने की मांग को लेकर जब देश का बंटवारा धर्म केे आधार पर हुआ और पाकिस्तान को मुस्लिम राष्ट्र घोषित कर दिया गया। फिर भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने में क्या आपत्ति है? अगर देश का बंटवारा धर्म के आधार पर नहीं हुआ।

तो बंटवारे का कोई औचित्य ही नहीं है पाकिस्तान व बांग्लादेश का भारत में विलय करके अखंड भारत की घोषणा कर देनी चाहिए। वही महंत परमहंस दास का कहना है कि अगर भारत में अल्पसंख्यक समुदाय अपनी आबादी बढ़ाता रहा तो 1 दिन ऐसा आएगा, जब अल्पसंख्यक फिर देश के विभाजन की बात करेंगे। इससे देश के टुकड़े होने का खतरा है। इसलिए मेरी मांग है कि भारत को अब हिंदू राष्ट्र घोषित कर देना चाहिए।

इस दौरान उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक मेरी मांग स्वीकार नहीं होगी तब तक मैं अन्य जल का त्याग कर यूं ही आमरण अनशन पर बैठा रहूंगा। महंत परमहंस दास के आमरण अनशन को लेकर जिला प्रशासन बेहद सतर्क है। अयोध्या जिला प्रशासन ने उनकी सुरक्षा को लेकर सशस्त्र पुलिसकर्मियों की तैनाती भी की है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.