जम्मू और कश्मीर के दूसरे लेफ्टिनेंट गवर्नर बनेंगे मनोज सिन्हा, जीसी मुर्मु का इस्तीफा राष्ट्रपति ने स्वीकार किया


जम्मू और कश्मीर के नए उपराज्यपाल बनेंगे भारतीय जनता पार्टी के नेता मनोज सिन्हा। उत्तरप्रदेश के गाजीपुर से सांसद रहे चुके है मनोज सिन्हा। बता दें प्रधानमंत्री के विश्वासपात्र माने जाते है पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा। केंद्र में मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में उनके पास रेलवे के राज्यमंत्री और संचार राज्यमंत्री का कार्यभार था। 2017 में वह यूपी के मुख्यमंत्री पद की रेस में भी आगे थे। लोकसभा चुनाव 2019 में उन्हें हार मिली थी। जम्मू और कश्मीर के पहले लेफ्टिनेंट गवर्नर जीसी मुर्मु ने इस्तीफा दिया था जिसे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने स्वीकार कर लिया है।

गुजरात कैडर के 1985 बैच के आईएएस अधिकारी जीसी मुर्मु नरेंद्र मोदी के सूबे के मुख्यमंत्री रहने के दौरान उनके प्रधान सचिव रह चुके हैं। उनका इस्तीफा उसी दिन हुआ, जब ठीक एक साल पहले जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 और 35 ए के प्रावधानों को समाप्त कर दिया गया था। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है।

पिछले साल 31 अक्टूबर 2019 को पूर्ववर्ती जम्मू एवं कश्मीर राज्य के दो केंद्रशासित प्रदेशों- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के तौर पर विभाजन के वजूद में आने के बाद मुर्मु नए नवेले केंद्रशासित प्रदेश के पहले एलजी बने थे। उन्होंने जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक की जगह ली थी। सूत्रों के मुताबिक वह भारत के अगले नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक यानी Comptroller and Auditor General of India (CAG) बन सकते हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published.