नालंदा: किसान का बेटा बनेगा डॉक्टर, NEET में पायी सफलता


पटना(नालंदा)। इरादे बुलंद हों तो मार्ग में हर कठिनाई का समाधान निकल ही आता है। जब पास में कुछ नहीं हो पर चट्टानी इरादों के साथ आगे बढ़ें, तो सफलता मिलेगी ही। करायपरसुराय प्रखंड के बेचु बिगहा के 18 वर्षीय संजीव सुमन ने यह कारनामा कर दिखाया है। किसान मिथलेश प्रसाद के बेटे संजीव ने नीट परीक्षा में पहले ही प्रयास में 720 अंक में 685 अंक के साथ ऑल इंडिया रैंकिंग में 430वां स्थान तो ओबीसी कैटेगरी (एआईआरसी) में 111वां स्थान लाकर जिला का नाम रौशन किया है।

संजीव ने बताया कि वे एम्स में डॉक्टरी पढ़ना चाहते हैं। वहां से डॉक्टर बनने के बाद गांवों में ही किसानों व आम लोगों का इलाज करेंगे। क्योंकि, आज भी गरीबी के कारण गांवों के सैकड़ों लोग इलाज नहीं करवा पाते हैं।

संजीव ने मैट्रिक तक की पढ़ाई हिलसा के अकबरपुर हाई स्कूल से तो इंटर की पढ़ाई करायपरसुराय के डिरी पर प्लस टू हाई स्कूल से की है। इंटर में भी इन्हें 90.8 फीसदी अंक मिले थे। पांच भाई बहनों में संजीव दूसरे नंबर पर हैं। उन्होंने युवाओं को सफलता का मंत्र बताते हुए कहा कि एक बार लक्ष्य तय करो, तो पाने तक चलते रहो। निरंतरता और लगन से ही हमें लक्ष्य मिल सकता है। कभी भी मन में नकारात्मक सोच नहीं आने देना चाहिए। यह हमें विकास पथ से भटकाती है। अपनी सफलता का श्रेय माता रूबी कुमारी व पिता मिथलेश प्रसाद को दिया है। सफलता पर दौलती देवी, गौतम गुलाब, राजीव रंजन, अजीत प्रसाद व अन्य लोगों ने उन्हें बधाई दी है


Leave a Reply

Your email address will not be published.