गौ माता को मजबूत बनाने के लिए राजेश मुनि के सानिध्य में गौ उत्पाद जन जागृति अभियान चलाएंगे – लुनिया


शिवपुरी। 74वे स्वाधीनता दिवस की शुभकामनाएं देते हुए अहिंसावादी पार्टी के नेता विनायक अशोक लुनिया के अपने समर्थकों को वेबिनार के माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि गौ माता को बचाना है तो उनको आज के युग के अनुसार “आय” उत्पन्न करने में सक्षम बनाने की जरूरत है। श्री लुनिया ने कहा कि गौ माता अपने दैनिक खर्च उठाने में खुद सक्षम है उनके पालन पोषण के लिए किसी पर आश्रित होने की आवश्यकता नही बस थोड़ी से जागरूकता की जरूरत है। श्री लुनिया के अनुसार अगर गौ संरक्षण के लिए गौ उत्पाद जन जागृति चलाया जाए और गौशाला / गौ पलकों के द्वारा से सीधे उपभोक्ता को गौ दुग्धएवं गौ दुग्ध से निर्मित सामग्रियां पहुचाने व उनका उपयोग करने के साथ ही गौ मूत्र व गौ वंश के गौबर से निर्मित अन्य उत्पाद के प्रति जन जागृति लाने से बहुत बड़े स्तर पर गौ संरक्षण संभव हो सकता है।

गौ संरक्षण के लिए जैन संत राजेश मुनि के सानिध्य में चलाएंगे जन जागृति अभियान –

श्री लुनिया ने आगे बताये की गौ माता को संरक्षण प्रदान करने के लिए जैन संत अभिग्रधारी राजेश मुनि के सानिध्य में देश भर में गौ उत्पाद जन जागृति अभियान चलाएंगे।
श्री लुनिया के अनुसार यह अभियान प्रत्यक्ष एवं डिजिटल प्लेटफार्म के माध्यम से चलाया जाएगा एवं लोगो को गौ उत्पाद को दैनिक दिनचर्या में उपयोग करने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

ट्रिपल तलाक, धारा 370, राम मंदिर के बाद अब गौ वंश की तरफ भी एक नजर कर लीजिए सरकार

युवा नेता एवं गौ रक्षक विनायक अशोक लुनिया ने कहा कि 2014 लोकसभा चुनाव के पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने हर मंच से गौ माता की कत्ले आम पर चिंता जताई थी और कहे थे कि गौ माता कटती है तो मेरा दिल रोता है। आज 6 साल से अधिक समय के कार्यकाल में माननीय मोदी जी ने ट्रिपल तलाक, धारा 370, श्री राम मंदिर निर्माण जैसे कई बड़े मुद्दों का निराकरण किया है यह किसी से छुपा नही है पर गौ माता को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के लिए आज तक पहल नही किए। श्री लुनिया ने कहा कि हम मोदी जी से अनुरोध करते है कि वह एक नजर गौ माता पर भी डाल दे और गौ माता को राष्ट्रीय पशु घोषित कर देश मे राम राज्य और अहिंसावाद का डंका बजा दें ताकि फिर कभी कोई गौ माता की तरफ आंख उठा के ना देख सके।


Leave a Reply

Your email address will not be published.