UP: एक महिला से गैंगरेप कर सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल करने वाले 3 आरोपी गिरफ्तार

शहर में करीब पांच महीने पहले UP की रहने वाली एक महिला से गैंगरेप कर सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल करने वाले तीन आरोपियों को जयपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। सोमवार को एडिशनल पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा ने बताया कि गिरफ्तार अभिषेक, मोंटी और संजू बंगाली है। ये सभी जयपुर में रह रहे है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए लखनऊ, इन्दौर व जयपुर शहर में विभिन्न जगहों पर पुलिस टीमें भेजी गई थी। अन्य बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम बाहर भेजी गई है।

आवाज और चेहरों के आधार पर पुलिस पीड़ित युवती तक उत्तरप्रदेश पहुंची

एडिशनल कमिश्नर लांबा ने बताया कि कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर एक महिला के साथ गैंगरेप का वीडियो वायरल होने की जानकारी मिली थी। इस वीडियो में महिला एवं एक पुरूष की तस्वीर के अलावा अन्य व्यक्तियों की आवाज थी। इसके अलावा एक व्यक्ति द्वारा महिला के साथ पिटाई की जा रही थी। वीडियो में आ रही आवाज से पता चला कि आरोपी जयपुर के रहने वाले है।

DCP साउथ हरेंद्र महावर और DCP क्राइम दिगंत आनंद के निर्देशन में जयपुर पुलिस के समस्त CST/DST एवं थानाधिकारियों को इस वीडियो में मौजूद महिला एवं पुरूष की पहचान के लिए स्पेशल टीमें गठित की गई। तब सामने आया कि वीडियो में मौजूद महिला यूपी की रहने वाली है। इस पर पुलिस टीम को उत्तरप्रदेश भेजकर महिला को जयपुर लाया गया। उसने मानसरोवर थाने में एक मुकदमा दर्ज करवाया।

दोस्त ने रुपयों का लालच देकर परिचित को सौंपा, फिर कार में गैंगरेप

महिला ने FIR में बताया कि 19 अक्टूबर 2020 को वह साईं कृपा होटल, हीरा पथ के सामने, न्यू सांगानेर रोड मानसरोवर में रुकी हुई थी। तब उसके जानकार संजू बंगाली ने पैसों का लालच देकर एक लड़के के साथ भेज दिया। उस लड़के ने यश होटल के पास मांग्यावास में महिला को एक कार में बैठा लिया। इस कार में पहले से चार लोग मौजूद थे। इन्होंने उसे जबरदस्ती कार में खींचकर बैठा लिया। फिर महिला का मोबाइल छीन लिया। इसके बाद कार को अजमेर रोड पर महेंद्रा सेज की तरफ ले गए। वहां पांचों व्यक्तियों ने महिला से कार में दुष्कर्म किया। उसका मोबाइल फोन से वीडियो बना लिया।

पांच व्यक्तियों के अलावा दो अन्य गाड़ियों ने भी किया दुष्कर्म और मारपीट

महिला ने रिपोर्ट में बताया कि जिस कार में उसको लाया गया था। उसके अलावा भी दो अन्य गाड़ियां वहां थी। इसमें सवार लोगों ने भी महिला के साथ मारपीट कर कार में बारी-बारी से दुष्कर्म किया। उनमें एक गुलाब नाम का आदमी था और एक लड़के का नाम अभिषेक था। उन सभी लोगों को सामने आने पर वह पहचान सकती है। गुलाब ने ही उसे धमकियां दी थी कि किसी को भी बताया तो वीडियो वायरल कर देंगे। इस डर से वह यूपी लौट गई। लेकिन आरोपियों ने वह वीडियो वायरल कर दिया।

पुलिस ने सायबर टीम की मदद से वीडियो वायरल होने से रुकवाया

DCP हरेंद्र महावर ने बताया कि मामले में पुलिस ने महिला के बयानों की वीडियोग्राफी की। उसका मेडिकल करवाया गया। पीड़िता का सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो को साइबर टीम की मदद से रुकवाया। इस संबंध में मानसरोवर ACP को केस की जांच सौंपी गई है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *