अयोध्या: महिला ने लगाया 2 लोगों पर दुष्कर्म का आरोप, पीड़ित पक्ष का आरोपियों के साथ जमीन को लेकर पहले से था विवाद


अयोध्या। मयंक श्रीवास्तव: अयोध्या जनपद के कोतवाली नगर क्षेत्र में एक महिला ने 2 लोगों पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है। पुलिस मामले को संदिग्ध मानकर चांच कर रही है। पुलिस की मानें तो मामला जमीनी विवाद से जुड़ा है। पीड़िता के पिता के विरुद्ध एक ही जमीन का 4 महीने में दो बार एग्रीमेंट करने पर मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। फिलहाल मामले को संदिग्ध मानकर पुलिस जांच में जुट गई है। पीड़िता का मेडिकल करवा लिया गया है।

मामला अयोध्या के कोतवाली नगर के ग्रामीण क्षेत्र का है। जहां रविवार देर रात एक झोपड़ी में घुसकर युवती के साथ दुष्कर्म मामले में दो युवकों को आरोपी बनाया गया है। बताया जा रहा है कि मामले में आरोपियों में से एक के साथ पीड़िता के पिता ने डेढ़ वर्ष पहले अपनी जमीन का एग्रीमेंट किया था। इसके ठीक चार महीने बाद पीड़िता की पिता की ओर से इसी जमीन का एग्रीमेंट एक दूसरे व्यक्ति के नाम पर कर दिया गया।

मामले में कोर्ट के आदेश पर युवती के पिता के विरुद्घ मुकदमा दर्ज किया गया है। जमीन के एग्रीमेंट में फर्जीवाड़े के बाद अब परिवार ने जमीन का एग्रीमेंट लेने वाले युवक पर सामूहिक दुष्कर्म का मुकदमा पंजीकृत कराया है। वही पीड़िता की मां ने मामले में प्रशासन ने न्याय की गुहार लगाई है। उन्होंने बताया की रविवार देररात झोपड़ी में घुसकर दो युवकों ने उसकी बेटी के साथ छेड़छाड़ और दुष्कर्म किया। करीब घंटे बेटी बदहवाश पड़ी रही है। युवकों ने उसका मुंह दबाकर उसे जान मारने का भी प्रयास किया।

युवती की मां ने मामले में प्रशासन से आरोपियों पर शीघ्र कार्रवाई सुनिश्चित कराकर न्याय दिलाने की मांग की है। मामले में सीओ सिटी अमर सिंह का कहना है कि पीड़ित पक्ष का आरोपियों के साथ जमीन को लेकर पहले से विवाद चल रहा है। जिन 2 युवकों पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाया गया है उनमें से एक के साथ पीड़िता के पिता ने करीब डेढ़ वर्ष पहले एक जमीन का एग्रीमेंट किया था। इसके करीब 4 महीने बाद इसी जमीन का दूसरे व्यक्ति के साथ एग्रीमेंट कर दिया गया। मामले में आरोपी युवक की शिकायत पर मकदमा दर्ज किया गया है। अब व्यक्ति की बेटी ने युवक पर दुष्कर्म का आरोप लगया है। मामले दर्ज करने के बाद जांच के पुलिस टीम गठित कर दी गई है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.