अयोध्या: युवती के अपहरण के बाद पीड़ित परिवार को मिल रही अभियुक्तों की धमकी, पीड़ित ने पुलिस पर लगाये ये इल्जाम


अयोध्या के इनायत नगर थाना क्षेत्र में युवती के अपहरण के बाद पीड़ित परिवार को अभियुक्तों की ओर से धमकी मिलने का मामला सामने आया है। पीड़ित परिवार डर के साए में जी रहा है. युवती के पिता ने स्थानीय पुलिस पर अभियुक्तों के विरुद्ध कार्रवाई करने की बजाय समझौता करने का दबाव डालने का आरोप लगाया है।गत 20 जनवरी को नगर थाना क्षेत्र में एक युवती का अपहरण हुआ था. वह सुबह अपने घर से ही स्कूल के लिए निकली थी लेकिन शाम तक जब वह घर वापस नहीं लौटी तो परिजनों ने इसकी खोजबीन की. देर शाम युवती के लखनऊ में होने का पता चला। जिसके बाद उसे पुलिस की सहायता से घर पहुंचाया गया।

मामले में परिजनों की तहरीर पर एक स्थानीय ईंट भट्ठा मालिक के पुत्र और चार अन्य लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया. इन सभी के विरुद्ध पोक्सो एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज होने के बाद दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया।पीड़ित परिवार का आरोप है मामला दर्ज होने के बाद अभियुक्तों की ओर से लगातार उनके ऊपर एफ आई आर वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है. उन्हें ऐसा ना करने पर जान से मारने की धमकी दी जा रही है. वहीं स्थानीय पुलिस अभियुक्तों से पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने में स्वयं को असमर्थ बता रही है. पीड़ित का आरोप है कि स्थानीय पुलिस द्वारा एफआईआर वापस लेने और अभियुक्तों से समझौता करने का दबाव बनाया जा रहा है। मामले में कार्रवाई न होने पर पीड़ित परिवार एसएसपी मिलकर सुरक्षा की गुहार लगा चुका है.  मुख्यमंत्री पोर्टल पर भी शिकायत की जा चुकी है. इसके बावजूद आरोप है कि 27 जुलाई को अभियुक्तों के साथ 9 लोगों ने उनके घर में घुसकर मारपीट की. जिसमें परिवार के मुखिया नौशाद को गंभीर चोट लगी। इस दौरान अभियुक्तों ने पिस्तौल दिखाकर  एफआईआर दर्ज वापस न लेने पर जान से मारने की धमकी दी. मामले में जब स्थानीय पुलिस ने शिकायत दर्ज करने के बजाय उल्टे पीड़ित पक्ष पर अभियुक्तों के साथ समझौता का दर्द एफआईआर वापस लेने का दबाव बनाया. पीड़िता के पिता का आरोप है कि बारुन चौकी पुलिस द्वारा कहा गया कि आप बड़े लोगों के विरुद्ध शिकायत कर रहे हैं पुलिस इस मामले में आप को सुरक्षा नहीं दे सकती।मामले में उच्च अधिकारियों से शिकायत के बावजूद अभियुक्तों के विरुद्ध उचित कार्रवाई नहीं की जा रही है।पीड़िता के पिता नौशाद अपनी पत्नी के साथ दूसरी बार एसएसपी कार्यालय पहुंचे। लेकिन उन्हें वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मिलने नहीं दिया गया।उन्होंने आरोप लगाया कि एसएसपी कार्यालय में तैनात कर्मचारियों ने उन्हें कार्यालय में प्रवेश करने से रोका।एसएसपी कार्यालय में पीड़ित का प्रार्थना पत्र तक नहीं लिया गया. युवती परिजनों का कहना है कि सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई उन्हें जान से मार सकते हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published.