बार बार प्रदर्शन करने पर भी नहीं खुल रही प्रशासन की आँखे, जलभराव के चलते घायल हो रहे लोग


अयोध्या – नगर निगम क्षेत्र के जनौरा वार्ड में जलभराव की समस्या को लेकर प्रशासन पर स्थानीय लोगों ने आरोप लगाए हैं। मोहल्ले वासियों का आरोप है कि स्थानीय प्रशासन की मिलीभगत से जमीन का अतिक्रमण कराया जा रहा है। वहीं जन समस्याओं को लेकर उदासीनता बरती जा रही है। लोग जलभराव वाले रास्ते से गुजर रहे हैं। जिससे आए दिन दुर्घटना होती रहती है। इसके बावजूद समस्या का समाधान नगर निगम प्रशासन की ओर से नहीं कराया जा रहा है। वही इस समस्या का समाधान न होने पर जनवादी नौजवान सभा ने नगर निगम प्रशासन का विरोध करने की चेतावनी दी है। जनवादी नौजवान सभा के जिला प्राभारी कामरेड विश्वजीत सिंह राजू के नेतृत्व में जनौरा वार्ड व बुध्य नगर के लोगों ने जलभराव की समस्या का शीघ्र समाधान कराने की मांग की है. जनौरा वासियों का आरोप है कि मेन सड़क के दोनों तरफ करीब 70 मीटर तक 2 से 3 फिट पानी भरा हुआ है. स्थानीय लोगों की ओर से प्रशासन से लगातार समस्या के समाधान की मांग की जाती रही है लेकिन इस ओर अब तक ध्यान नहीं दिया गया।

वहीं जनौरा में जल जमाव की समस्या को लेकर यहां पर पानी के निकलने वाले नाले को सदर तहसील के कर्मचारियों के मिली भगत से नाले को पटवा दिया गया है। बड़ा नाला जाम होने के कारण यहां चारो तरफ जलभराव बना हुआ है। यहां से गुजरते वक्त गड्ढे में गिर कर कई लोग घायल हो चुके हैं। इसी में वार्ड के निवासी ऋतु राज सिंह गढ़े में गिर गए, जिसके कारण सीने की हड्डी में फ्रैक्चर हो गया।आपको बता दें कि जनौरा करीब 4 हजार की आबादी वाला क्षेत्र है। इस वार्ड के लोगों के निकलने का यही मेन रास्ता है। इस मार्ग से गुजरने वाले लोगों के साथ आए दिन दुर्घटना घट रही है. पूरे रास्ते में जलभराव है। यहां लगे बिजली के खंभे से करंट का पानी में उतरने का भय बना रहता है।समस्या के समाधान की मांग को लेकर जनौरा के प्रदेश महासचिव कामरेड सत्यभान सिंह के साथ जनौरा वासियों ने नगर निगम प्रशासन को तत्काल इस समस्या का निराकरण कराने की मांग की है।इस समस्या के निजात के लिए 26 अगस्त को सुबह 10 बजे नगर आयुक्त से मिलकर समस्या के समाधान के लिए मांग पत्र सौप कर समस्या के तत्काल निराकरण की मांग की जाएगी. समस्या के समाधान न होने की दशा में संगठन आंदोलन करने के लिए बाध्य होगा।


Leave a Reply

Your email address will not be published.